मोबाइल टॉर्च की रोशनी में मरीज के लगाए टांके!

वसीम अब्बासी, फ़िरोज़ाबाद। अंधेरे में मोबाइल की टोर्च की रौशनी में  मरीजों का इलाज हो रहा है। योगी सरकार भले ही स्वास्थ विभाग को बेहतर बनाने के प्रयास कर रहे है वही दूसरी और स्वास्थ विभाग के कर्मचारी और डॉक्टर उसमे पलीता लगाने का कार्य कर रहे है।

ऐसा ही एक मामला देर रात्रि का है जहाँ हाल में ही बने मेडिकल कालेज के ट्रामा सेंटर में एक्सीडेंट में घायल व्यक्ति को भर्ती कराया गया।  ट्रामा सेंटर में अंधेरा पड़ा हुआ था। ट्रामा सेंटर में न बिजली की समुचित व्यवस्था थी और ना ही इन्वर्टर की।

इतना ही नही अस्पताल में लगा जनरेटर तक डॉक्टर चालू नहीं करवा सके और अंधेरे में ही घायल का उपचार मोबाइल टोर्च में करने लगे।

घायल के परिजन की माने तो उसका साफ कहना है कि मोबाइल की टोर्च  में ही घायल के टांके भी लगा डाले।  मामले पर मेडिकल कालेज प्रसासन कुछ भी कहने से बच रहा है। अब देखना यह ये क्या हार बार की तरह इस मामले ठंडे बस्ते में डाल दिया जाएगा या फिर जिम्मेदार लापरवाह कर्मचारियों पर कोई कार्यवाही की जाएगी। 
मोबाइल टॉर्च की रोशनी में मरीज के लगाए टांके! मोबाइल टॉर्च की रोशनी में मरीज के लगाए टांके! Reviewed by UPUKLive Desk on 10/22/2019 07:34:00 PM Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.