सिंगर बोलीं- आर्टिस्ट का कोई मजहब नहीं होता, आर्टिस्ट को देश में बैन करना सही नहीं

भोपाल। आर्टिस्ट का कोई मजहब नहीं होता, किसी घटना की वजह से किसी आर्टिस्ट की आर्ट को अपने देश में बैन करने का निर्णय मुझे सही नहीं लगता। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकवादी हमले के बाद बॉलीवुड इंडस्ट्री द्वारा लिए गए डिसीजन पर यह कहना है बॉलीवुड सिंगर ज्योतिका तांगड़ी का।

टोटल धमाल मूवी मुंगड़ा... का री-क्रिएट वर्जन, पल्लू लटके, इश्क दे फनियार, शुभ दिन जैसे गाने गा चुकी ज्योतिका बुधवार को एक निजी प्रोग्राम में परफॉर्म करने भोपाल आईं थीं। इस दौरान उन्होंने पत्रिका से बातचीत में यह बात शेयर की।

बता दें कि पुलवामा हमले के बाद फेडरेशन ऑफ वेस्टर्न इंडिया सिने इम्प्लॉईज (एफडब्ल्यूआईसीई) के मुख्य सलाहकार अशोक पंडित ने पाकिस्तान के कलाकारों पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने का निर्णय लेते हुए कहा है कि एफडब्ल्यूआईसीई पाकिस्तानी कलाकारों के साथ काम करने की जिद करने वाले फिल्म निर्माताओं पर प्रतिबंध लगाएगा।

देश पर बार-बार हमले होने के बावजूद पाकिस्तानी कलाकारों के साथ काम करने की जिद करने वाली संगीत कंपनियों को शर्म आनी चाहिए। चूंकि उन्हें कोई शर्म नहीं है तो हमें उन्हें पीछे हटने के लिए मजबूर करना होगा।
सिंगर बोलीं- आर्टिस्ट का कोई मजहब नहीं होता, आर्टिस्ट को देश में बैन करना सही नहीं सिंगर बोलीं- आर्टिस्ट का कोई मजहब नहीं होता, आर्टिस्ट को देश में बैन करना सही नहीं Reviewed by Unknown on 2/22/2019 10:17:00 PM Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.