इकलौता शक्तिपीठ जहां होती है योनि की पूजा, जानिए वजह...

नई दिल्ली। नवरात्रि मां दुर्गा की उपासना का पर्व है। नवरात्रि के 9 दिनों तक भक्त बड़े ही श्रद्धा भाव से माता की आराधना में लीन रहते हैं।

इस मौके पर लोग घर पर माता दुर्गा की विधिवत पूजा-अर्चना तो करते ही हैं साथ में  कई शक्तिपीठों के दर्शन भी करने जाते हैं।

सभी 51 शक्तिपीठों में से कामाख्या शक्तिपीठ के दर्शन का विशेष महत्व है। यह ऐसा इकलौता शक्तिपीठ है जहां पर 10 महाविद्याएं काली, तारा, मातंगी, कमला, सरस्वती, धूमावती, भुवनेश्वरी, बगला, छिन्नमस्तिका और भैरवी एक ही स्थान पर विराजामान हैं। इस शक्तिपीठ में माता की योनि की पूजा होती है। अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार इसी मान्यता के कारण इस स्थान पर देवी की योनि की पूजा होती है।

हर साल तीन दिनों के लिए यह मंदिर पूरी तरह से बंद रहता है। माना जाता है कि माँ कामाख्या इस बीच रजस्वला होती हैं। और उनके शरीर से रक्त निकलता है।

इस दौरान शक्तिपीठ की अध्यात्मिक शक्ति बढ़ जाती है। इसलिए देश के विभिन्न भागों से यहां तंत्रिक और साधक जुटते हैं। आस-पास की गुफाओं में रहकर वह साधना करते हैं।
इकलौता शक्तिपीठ जहां होती है योनि की पूजा, जानिए वजह... इकलौता शक्तिपीठ जहां होती है योनि की पूजा, जानिए वजह... Reviewed by Unknown on 8:42 PM Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.