मैं नरम या कट्टर हिंदुत्व में विश्वास नहीं रखता

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंगलवार को स्पष्ट किया कि वह 'नरम या कट्टर' हिंदुत्व के अनुरागी नहीं हैं। संपादकों के साथ बातचीत में राहुल इस बात पर सहमत नहीं हुए कि वह बहुसंख्यक समुदाय को रिझाने के लिए नरम हिंदुत्व को गले लगाएंगे।

उन्होंने कहा, "मैं हिंदुत्व के किसी भी प्रकार में विश्वास नहीं रखता, चाहे वह नरम हिंदुत्व हो या कट्टर हिंदुत्व। हिंदू हैं, बस हो गया..जो धर्म की राजनीति करते हैं, वे हिंदुत्व की बात करते हैं। हमें धर्म की राजनीति नहीं करनी है। हिंदू होना और धर्म की राजनीति करना, दो अलग-अलग चीजें हैं।"

राहुल ने कहा कि धार्मिक नेताओं से उनकी मुलाकात और धार्मिक स्थलों पर जाने में कुछ भी गलत नहीं है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मतभेद पर उन्होंने जोर देकर कहा कि यह वैचारिक मतभेद है न कि व्यक्तिगत।

दो दिवसीय हैदराबाद दौरे के दूसरे दिन राहुल ने भविष्यवाणी की, "नरेंद्र मोदी 2019 में प्रधानमंत्री नहीं बनेंगे।"

उन्होंने पूर्वानुमान लगाया कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को 230 सीटें तक नहीं मिलेंगी और इसलिए मोदी के दोबारा प्रधानमंत्री बनने का सवाल ही पैदा नहीं होता। भाजपा की उत्तर प्रदेश और बिहार में सीटें घटेंगी, क्योंकि गैर-भाजपा दलों के बीच गठबंधन है।

उन्होंने यह भी रेखांकित किया कि शिवसेना समेत भाजपा के कई सहयोगी मोदी के फिर से प्रधानंमत्री बनने के खिलाफ हैं।

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि उनकी पार्टी भाजपा को हराने के लिए समान विचारधारा वाले दलों के साथ महागठबंधन बनाने की दिशा में कार्य कर रही है।
मैं नरम या कट्टर हिंदुत्व में विश्वास नहीं रखता मैं नरम या कट्टर हिंदुत्व में विश्वास नहीं रखता Reviewed by Unknown on 7:45 PM Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.